0.5 C
London
Tuesday, February 7, 2023
HomeBreaking Newsझारखंड में माओवादियों और आपराधिक गिरोह पर लगाम लगाने में जुटी एनआईए

झारखंड में माओवादियों और आपराधिक गिरोह पर लगाम लगाने में जुटी एनआईए

Date:

Related stories

spot_imgspot_img

रांची। झारखंड में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) माओवादियों और आपराधिक गिरोह पर लगाम लगाने में जुट गयी है। इस साल एनआईए ने झारखंड के चार बड़े मामलों को टेकओवर कर जांच शुरू की है। इनमें तेतरियाखांड कोलियरी में आगजनी, लांजी नक्सली हमला और लातेहार के रूप पंचायत के जंगल में नक्सलियों की मौजूदगी और माओवादी और आपराधिक गिरोह को हथियार सप्लाई करने की जांच शामिल है।

एनआईए इन मामलों की कर रही है जांच
झारखंड में भाकपा माओवादियों और अमन साहू गैंग को हथियार की सप्लाई करने के मामले की जांच एनआईए ने शुरू की कर दी है। झारखंड एटीएस द्वारा दर्ज किये गये कांड (संख्या 01/2021) को एनआईए ब्रांच रांची ने नौ दिसंबर 2021 को टेकओवर करते हुए मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। एनआईए के एसपी शैलेंद्र मिश्रा के नेतृत्व में इस पूरे मामले की जांच की जा रही है। इस मामले में एनआईए ने सीआरपीएफ के जवान अविनाश कुमार, ऋषि कुमार, पंकज सिंह, संजय सिंह, मुहाजिद खान, अमन साहू और अरुण कुमार सिंह को आरोपी बनाया है।

जबकि दूसरा मामला लातेहार जिले के गारू थाना क्षेत्र स्थित रूप पंचायत की है। एनआईए ने जंगल में माओवादियों की मौजूदगी की जांच को टेकओवर किया है। एनआईए ने लातेहार के गारू थाना में दर्ज केस संख्या 32/2017 और एनआईए केस संख्या आरसी 14/2017 के अनुसंधान के दौरान मिले तथ्यों के आधार पर एनआईए ब्रांच रांची ने 18 अप्रैल 2021 केस संख्या आरसी 03/2021 दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। एनआईए ने इस मामले में सुधाकरण और उसकी पत्नी नीलिमा सहित 11 नक्सलियों को आरोपी बनाया है। इनमें प्रभु साव, बलराम उरांव, छोटू खेरवार, सुधाकरण, नीलिमा, प्रदीप चेरो, नीरज जी, रविंद्र गंझू, मृत्युंजय, विश्राम उरांव और मनोज सिंह को एनआईए ने नामजद आरोपी बनाये गए है। इसके अलावा एनआईए ने 110 अज्ञात नक्सलियों को भी आरोपी बनाया है।

तीसरा मामला चाईबासा जिले के टोकलो थाना क्षेत्र स्थित लांजी गांव की है। बीते चार मार्च 2021 को नक्सलियों द्वारा आईडी विस्फोट में तीन जवान शहीद हो गये थे। इस मामले की जांच एनआईए कर रही है। टोकलो थाना में दर्ज मामले को एनआईए ब्रांच रांची ने तीन 2021 को टेकओवर करते हुए कांड संख्या आरसी 02/2021 दर्ज किया है। इस मामले में एनआईए ने आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है। एनआईए ने इस मामले में एक करोड़ के इनामी नक्सली अनल दा उर्फ पतिराम मांझी सहित 33 नक्सलियों को नामजद आरोपी बनाया है।

चौथा मामला लातेहार के बालूमाथ थाना क्षेत्र स्थित तेतरियाखाड़ कोलियरी का है। बीते 18 दिसंबर 2020 को आगजनी और गोलीबारी के मामले की जांच एनआईए कर रही है। एनआईए की रांची ब्रांच ने 24 मार्च 2021 को कांड संख्या आरसी 01/ 2021 दर्ज किया है। जांच में यह बात सामने आयी है कि अपराधी सुजीत सिन्हा और अमन साहू ने शाहरुख और प्रदीप गंझू सहित अन्य उग्रवादियों के साथ मिलकर हत्या, जबरन वसूली और आपराधिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए धन जुटाने की साजिश रची थी। इस मामले में एनआईए सुजीत सिन्हा, अमन साहू सहित 17 लोगों पर चार्जशीट दायर किया है।

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

spot_img