4.2 C
London
Wednesday, February 8, 2023
Homeबिजनेसरिलायंस इंडस्ट्रीज मुनाफा 1.6% बढ़ा, आय 12% बढ़ी

रिलायंस इंडस्ट्रीज मुनाफा 1.6% बढ़ा, आय 12% बढ़ी

Date:

Related stories

spot_imgspot_img

वित्त वर्ष 2017 की चौथी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज का स्टैंडअलोन मुनाफा 1.6 फीसदी बढ़कर 8151 करोड़ रुपये हो गया है। वित्त वर्ष 2017 की तीसरी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज का स्टैंडअलोन मुनाफा 8082 करोड़ रुपये रहा था।

 

वित्त वर्ष 2017 की चौथी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज की स्टैंडअलोन आय 12 फीसदी बढ़कर 74589 करोड़ रुपये पर पहुंच गई है। वित्त वर्ष 2017 की तीसरी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज की स्टैंडअलोन आय 66606 करोड़ रुपये रही थी।

 

तिमाही आधार पर जनवरी-मार्च तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज का स्टैंडअलोन एबिटडा 10,604 करोड़ रुपये से बढ़कर 12416 करोड़ रुपये रहा है। तिमाही आधार पर जनवरी-मार्च तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज का स्टैंडअलोन एबिटडा मार्जिन 15.9 फीसदी से घटकर 15.1 फीसदी रहा है। तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज का ग्रॉस रिफाइनिंग मार्जिन यानि जीआरएम 10.8 डॉलर प्रति बैरल से बढ़कर 11.50 डॉलर प्रति बैरल रहा है।

 

तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज के पेटकेम कारोबार की स्टैंडअलोन बिक्री 16.3 फीसदी बढ़ी है, जबकि पेटकेम कारोबार का स्टैंडअलोन एबिट 2.8 फीसदी बढ़कर 3454 करोड़ रुपये रहा है। तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज के पेटकेम कारोबार का स्टैंडअलोन एबिट मार्जिन 15.5 फीसदी से घटकर 13.7 फीसदी रहा है।

 

तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज के रिफाइनिंग कारोबार की स्टैंडअलोन बिक्री 20 फीसदी बढ़ी है, जबकि रिफाइनिंग कारोबार का स्टैंडअलोन एबिट 2.2 फीसदी बढ़कर 6262 करोड़ रुपये रहा है। तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज के रिफाइनिंग कारोबार का स्टैंडअलोन एबिट मार्जिन 11.5 फीसदी से घटकर 9.8 फीसदी रहा है।

तिमाही दर तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में रिलायंस इंडस्ट्रीज की अन्य आय 3025 के मुकाबले 1371 करोड़ रुपये हो गई है।

 

रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कहा कि कंपनी ने सालाना आधार पर 18.8 की बढ़त के साथ 29,901 करोड़ रुपये का मुनाफा हासिल किया है। कंपनी के रिफाइनिंग और पेट्रो केमिकल कारोबार में रिकॉर्ड मुनाफा देखने को मिला है। कंपनी लगातार नई ऊंचाई हासिल कर रही है। 60.2 फीसदी के रेवेन्यू ग्रोथ के साथ कंपनी के रिटेल कारोबार ने भी उत्साहजनक प्रदर्शन किया है।

 

रिलायंस इंडस्ट्रीज के नतीजों पर कंपनी के सीएफओ आलोक अग्रवाल ने कहा कि कंपनी के रिफाइनिंग, पेटकेम कारोबार का प्रदर्शन अच्छा रहा है। मौजूदा प्रोजेक्ट से पोर्टफोलियो और मजबूत होगा। रिफाइनिंग कारोबार से अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद है। रिलायंस जियो में अब तक 1.79 लाख करोड़ रुपये का निवेश किया जा चुका है। रिलायंस के 1200 पेट्रोल पंप चल रहे हैं। आगे पेट्रोल कारोबार वॉल्यूम बेहतर रहने की उम्मीद है। चौथी तिमाही में जीएआर 8 साल की ऊंचाई पर रहा है। पेट्रोल कारोबार से वॉल्यूम में बढ़त हुई है। वित्तवर्ष 2018 में नए प्रोजेक्ट से वॉल्यूम और बढ़ेगा। जियो दुनिया में सबसे बड़ा डाटा नेटवर्क हो गया है, जियो के ज्यादातर ग्राहक प्राइम मेंबर बने हैं। 31 मार्च 2017 तक रिलायंस जियो के कुल सब्सक्राइबर 10.9 करोड़  हो गए हैं।

 

(डिस्क्लोजरः मनीकंट्रोल डॉट कॉम रिलायंस इंडस्ट्रीज की कंपनी नेटवर्क18 मीडिया एंड इन्वेस्टमेंट लिमिटेड का हिस्सा है। नेटवर्क18 मीडिया एंड इन्वेस्टमेंट लिमिटेड का स्वामित्व रिलायंस इंडस्ट्रीज के पास ही है।)

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories

spot_img